Unique Intezaar shayari in hindi |
Intezaar shayari 



◆हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया 
~गुलज़ार



◆दो चार दिन की बात हो तो कर ले कोई इंतिज़ार मिलने के एतबार पर कब तक कोई जिया करे

◆आप का ए'तिबार कौन करे रोज़ का इंतिज़ार कौन करे 
~दाग़ देहलवी
Unique Intezaar shayari in hindi |
Intezaar shayari 
Best intzaar shayari


◆तुझसे मिलना तो एक ख़्वाब है मैंने तेरे इंतिज़ार से मुहब्बत की है

◆न कोई वा'दा न कोई यक़ीं न कोई उमीद, मगर हमें तो तिरा इंतिज़ार करना था !...

◆ओ जाने वाले आ कि तिरे इंतिज़ार में रस्ते को घर बनाए ज़माने गुज़र गए 
~ ख़ुमार बाराबंकवी

Unique Intezaar shayari in hindi |
Intezaar shayari 

◆तमाम जिस्म को आँखें बना के राह तको, तमाम खेल मोहब्बत में इंतिज़ार का है।

◆रिश्तों का एतिबार वफ़ाओं का इंतिज़ार..!! हम भी चराग़ ले के हवाओं में आए हैं..!!

◆एक महक़ रोज़ आ के कहती है मुझे, मुंतिज़र रहता है कोई यहाँ मेरा.

Unique Intezaar shayari in hindi |
Intezaar shayari

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Search