One Of The Best Shayari About Life's Bitter Truth
ज़िन्दगी की कड़वी सच्चाई बयाँ करती कुछ चुनिंदा शायरी
Best shayari about life

◆भूखे बच्चों की तसल्ली के लिए, 
माँ ने फिर पानी पकाया देर तक
~ नवाज़ देवबंदी

◆ताक़ पर जुज़दान में लिपटी दुआएँ रह गईं 
चल दिए बेटे सफ़र पर घर में माएँ रह गईं....... 
(जुज़दान=बस्ता, school bag)
~अज्ञात



◆क़ाग़ज़ी हैं पैरहन, क़ाग़ज़ी तस्वीर है 
ख़्वाब हैं ऐसे ,झूठी जिनकी ताबीर है 
~इस्लाम शेरी
(पैरहन=पोशाक, पहनावा,ताबीर=खवाब को बयान करना,कल्पना )

◆सब कि औकात सिर्फ एक सफेद चादर है . . जिसे ओढ़ने की ताक़त भी न रहेगी ...
Life,Truth,Shayari 
~अज्ञात

◆हम को इख़्लास खा गया वरना, "चालबाज़ी" किसे नहीं आती ..
(इख़्लास=सच्चाई,निष्कपटता)
~अज्ञात

◆मैं उतनी ही मयस्सर हूँ, जितना तुम मुस्तहिक़ हो!
(मुस्तहिक़=काबिल)
~अज्ञात

◆मुफ़लिसी जानते हो क्या है रोटी खिलाने के लिए माँ का न होना....
(मुफ़लिसी=गरीबी)
Life,Truth,Shayari 
~अज्ञात

◆कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता 
~निदा फ़ाज़ली

◆सुबह के तख़्त-नशीं शाम को मुज़रिम ठहरे हमने पल भर में नसीबों को बदलते देखा 
~बहादुर शाह ज़फ़र

One Of The Best Shayari About Life's Bitter Truth
ज़िन्दगी की कड़वी सच्चाई बयाँ करती कुछ चुनिंदा शायरी

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Search