Best nasha shayari


◆सरक कर आ गईं ज़ुल्फ़ें जो इन मख़मूर आँखों तक मैं ये समझा कि मयख़ाने पे बदली छाई जाती है...

◆लोग कहते हैं रात बीत चुकी मुझ को समझाओ!
मैं शराबी हूँ
~साग़र सिद्दीक़ी


◆दूर से आए थे साक़ी सुन के मय-ख़ाने को हम
बस तरसते ही चले अफ़सोस पैमाने को हम
~नज़ीर अकबराबादी

◆होश में हो के भी साक़ी का भरम रखने को लड़खड़ाने की हम अफ़्वाह......उड़ा देते हैं
~अजय सहाब

◆मयख़ाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नहीं, ऐ साकी ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती!

◆जो मज़े आज तिरे ग़म के अज़ाबों में मिले ऐसी लज़्ज़त कहाँ साक़ी की शराबों में मिले...
~इमाम आज़म
[अज़ाबों=पीड़ाओं]

◆मय-कशो मय की कमी बेशी पे नाहक़ जोश है
ये तो साक़ी जानता है किस को कितना होश है
~नातिक़ लखनवी
[नाहक़=बेवजह]

◆मय-कशी से नजात मुश्किल है
मय का डूबा कभी उभर न सका
~जलील मानिकपूरी
[नजात=छूट]

◆मय-कदे की तरफ़ चला ज़ाहिद
सुब्ह का भूला शाम घर आया
~कलीम आजिज़
[ज़ाहिद=बुरे कामों से दूर रहने वाला इंसान]

◆नतीजा बेवजह महफ़िल से उठवाने का क्या होगा, ना होंगे साकी हम तो तेरे मयखाने का क्या होगा।

आँख तुम्हारी मस्त भी है और मस्ती का पैमाना भी
एक छलकते साग़र में मय भी है मय-ख़ाना भी
~साग़र निज़ामी

◆इन तल्ख़ आँसुओं को न यूँ मुँह बना के पी
ये मय है ख़ुद-कशीद इसे मुस्कुरा के पी

◆कैसे बंद हुआ मय-ख़ाना अब मालूम हुआ
पी न सका कम-ज़र्फ़ ज़माना अब मालूम हुआ
~हफ़ीज़ जालंधरी
[कम-ज़र्फ़=मूर्ख]

◆मय-कशी के भी कुछ आदाब बरतना सीखो
हाथ में अपने अगर जाम लिया है तुम ने
~आल-ए-अहमद सूरूर

◆तिश्न नज़रें मिली शोख नज़रों से जब मय बरसने लगी जाम भरने लगे... साक़िया आज तेरी ज़रूरत नहीं बिन पिये बिन पिलाये खुमार आ गया...
~अली सरदार ज़ाफरी 
[तिश्न=प्यास भरी,खुमार=नशा]

◆मय पी के जो गिरता है तो लेते हैं उसे थाम
नज़रों से गिरा जो उसे फिर किस ने सँभाला
~नज़ीर अकबराबादी

◆मय पिला ऐसी कि साक़ी न रहे होश मुझे
एक साग़र से दो आलम हों फ़रामोश मुझे
~रिन्द लखनवी

◆एक तेरा ही नशा हमें मात दे गया वरना… मयखाना भी हमारे हाथ जोड़ा करता था…
होश आने का था जो ख़ौफ़ मुझे
मय-कदे से न उम्र भर निकला
~जलील मानिकपूरी


Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Search