Ultimate shayari on yaad
Best shayari on yaaden
यादें याद आती हैं 


Best yaaden shayari


तुम जिसे याद करो फिर उसे क्या याद रहे
  न ख़ुदाई की हो परवा न ख़ुदा याद रहे
   ~शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

◆ये हक़ीक़त है कि अहबाब को हम
   याद ही कब थे जो अब याद नहीं
     ~नासिर काज़मी
【अहबाब=प्रिय】

◆शाम   होते ही   चराग़ों को   बुझा देता हूँ 
   दिल ही काफ़ी है तिरी याद में जलने के लिए
     ~अज्ञात

◆दिल आबाद कहाँ रह पाए उस की याद भुला देने               से 
   कमरा वीराँ हो जाता है इक तस्वीर हटा देने से 
   ~जलील ’आली’

◆अब मेरी राह में हायल नहीं होती यादें, 
   अब तेरे शहर से गुज़रूँ, तो गुज़र जाती हूँ
    ~ अज्ञात
हायल=बाधा】

◆दिल धड़कने का सबब याद आया
   वो तिरी याद थी अब याद आया
    ~ नासिर काज़मी

◆भुलाई नहीं जा सकेंगी ये बातें
   तुम्हें याद आएँगे हम याद रखना
    ~ हफ़ीज़ जालंधरी

◆बसी रहती यादें उन गलियों की ज़ेहन में
   जिनसे गुज़रे थे कभी दोनों साथ साथ
      ~अज्ञात

◆याद तो हक़ की तुझे याद है पर याद रहे
  यार दुश्वार है वो याद जो है याद का हक़
     ~अब्दुल रहमान एहसान देहलवी

◆तेरी मजबूरियाँ दुरुस्त मगर
  तू ने वादा किया था याद तो कर
   ~ नासिर काज़मी

◆याद मेरी सँभाल कर रखना
   मेरा क्या मैं रहा रहा न रहा
      ~निशात शहादवी

◆किसी की याद आती है तो ये भी याद आता है
   कहीं चलने की ज़िद करना मिरा तय्यार हो जाना
     ~मुनव्वर राणा
Shayari on yaad | yaad shayari
◆बिछड़ने वालों में हम जिस से आश्ना कम थे
   न जाने दिल ने उसे याद क्यूँ ज़ियादा किया
     ~मोहसिन ज़ैदी

 ◆ जिस रोज़ किसी और पे बेदाद करोगे
     ये याद रहे हम को बहुत याद करोगे
        ~मोहम्मद रफ़ी सौदा
【बेदाद=उत्पीड़न】

◆रह रह के कौंदती हैं अंधेरे में बिजलियाँ
  तुम याद कर रहे हो कि याद आ रहे हो तुम
     ~हैरत गोंडवी

◆चली आती है तेरी यादें मेरे ज़ेहन में अक्सर...
   तुझे न सही तेरी यादों को बड़ी मोहब्बत है मुझसे
      ~अज्ञात

◆चलो बाँट लेते हैं अपनी सज़ाएँ
   न तुम याद आओ न हम याद आएँ
      ~सरदार अंजुम

Miss you shayari | shayari for yaaden

◆दुनिया-ए-तसव्वुर हम आबाद नहीं करते
   याद आते हो तुम ख़ुद ही हम याद नहीं करते
      ~फ़ना निज़ामी कानपुरी
【दुनिया-ए-तसव्वुर=दुनियाँ का ख्याल】


◆हम ख़ुदा के कभी क़ाइल ही न थे
   उन को देखा तो ख़ुदा याद आया
      ~अज्ञात
【क़ाइल=समर्थक】


◆है दुआ याद मगर हर्फ़-ए-दुआ याद नहीं
   मेरे नग़्मात को अंदाज़-ए-नवा याद नहीं
       ~साग़र सिद्दीक़ी
【हर्फ़-ए-दुआ=प्रार्थना में कही गयी बातें,अंदाज़-ए-नवा=आवाज़ का ढंग】

◆सारी दुनिया के ख़यालात थे दिल में लेकिन
   जब से है याद तिरी कुछ भी नहीं याद मुझे
       ~जलील मानिकपूरी

◆मरज़-ए-इश्क़ जिसे हो उसे क्या याद रहे
   न दवा याद रहे और न दुआ याद रहे
      ~शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

◆दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद
   अब मुझ को नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद
       ~जिगर मुरादाबादी

◆कुछ ऐसा हो कि तस्वीरों में जल जाए तसव्वुर भी
   मोहब्बत याद आएगी तो शिकवे याद आएँगे
      ~सरदार सलीम
Best shayari on yaad

◆एक मुद्दत से न क़ासिद है न ख़त है न पयाम
   अपने वा'दे को तू कर याद मुझे याद न कर
       ~जलाल मानकपुरी
【क़ासिद=डाकियाpostman,पयाम=सन्देश】

◆कहानी अपनी अपनी अहल-ए-महफ़िल जब     सुनाते हैं   
    मुझे भी याद इक भूला हुआ अफ़्साना आता है
       ~अम्न लख़नवी
【अहल-ए-महफ़िल=दुनियाँ की भीड़ में】

◆सरहदें तोड़कर आ जाती है .. किसी पंक्षी की तरह!
   ये जो तेरी यादें हैं बंटती नहीं मुल्कों की तरह 
     ~ अज्ञात

Ultimate shayari on yaad
Best shayari on yaaden
यादें याद आती हैं






Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Search