Shayari on life reality
दिखाई कम दिया करते है बुनियाद के पत्थर ज़मीं में जो दब गए, इमारत उन्हीं पे क़ायम है

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box

Search